तहजीब देखता हूं, अक्सर गरीबो के घर मे,

दुपट्टा फटा ही सही,लेकिन सर पे होता है।।