लॉयन न्यूज, बीकानेर। शहर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रशासन ने 9 जुलाई की रात को सिटी के अधिकांश क्षेत्रों में धारा 144 लागू कर दी थी। इसके तहत जीरो मोबिलिटी एरिया में किसी भी प्रकार की वाणिज्यिक या अन्य गतिविधियां संचालित करने की मनाही है। लेकिन कर्फ्यू के तहत जारी की गई गाइडलाइन व दिशा-निर्देश स्पष्ट नहीं होने के कारण शिक्षकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। शुक्रवार व शनिवार को कई कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्रों में सरकारी स्कूल खुले रहे और असमंजस में रहे प्रधानाचार्य/प्राचार्य द्वारा इन स्कूलों में शिक्षकों एवं स्टाफ को बुलाया भी जा रहा है। इन स्कूलों में जाने वाले शिक्षकों को हर रोज पुलिस कर्मियों से जद्दोजहद करनी पड़ रही है। इस संबंध में लॉयन एक्सप्रेस ने माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी से बातचीत की तो उन्होंने बताया कि कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्रों में स्कूल स्टाफ का जाना जरूरी नहीं है, शिक्षक को दिया हुआ काम घर बैठकर कर सकते है। उन्होंने बताया कि इस संबंध में जिला कलक्टर से भी बातचीत हो चुकी है। बता दें कि शहर के अलग-अलग इलाकों में कर्फ्यू के चलते बेरिगेट्स लगे हुए हैं जिससे शिक्षकों को अपनी स्कूलों में पहुंचने में बड़ी परेशानी हो रही है। बीते शुक्रवार से कई स्कूली शिक्षकों की शिकायतें आ रही थी कि कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्रों होने के बावजूद भी उन्हें स्कूल में बुलाया जा रहा है। कई शिक्षक तनाव के माहौल में स्कूल जाने को विवश हो रहे हैं।