तन्हाई भरी रात कुछ इस तरह काट ली,
थोड़ी तकिये से कह ली बाक़ी चादर से बांट ली।