जहाँ सुनने वालों को
सब्र आ जाये ना
वहां बोलने वाले
की औकात
दो कौङी की हो जाती हैं..... 🍁🍁