एक सरदार स्कूल पहुंचा। प्रिंसिपल मैडम के सामने कुर्सी डालकर बैठ गया।
प्रिंसिपल - क्या आप बच्चे का एडमीशन कराने आये हैं।
सरदार - जी
प्रिंसिपल - बच्चा कहां है?
सरदार - जी बच्चा तो अभी हुआ ही नहीं।
प्रिंसिपल - देखिये प्रेगनेंसी के दौरान किसी तरह के एडमीशन की बात नहीं हो सकती। पहले बच्चे को दुनियां में आ जाने दीजिये।
सरदार - कैसी प्रेगनेंसी। अभी तो मेरी शादी भी नहीं हुई।
प्रिंसिपल 😡 - अरे तो पहले शादी करिये जाकर। फिर आइये।
सरदार - जी मैं तो आपके लिये स्कीम लेकर आया हूं।
प्रिंसिपल - कैसी स्कीम?
सरदार - जी आप मेरी शादी किसी लड़की से करा दें तो मेरे होने वाले हर बच्चे का एडमीशन आपके स्कूल में होगा।
प्रिंसिपल 😡 - ये क्या बकवास कर रहे हो!
सरदार - जी जब आपकी बतायी दुकान से किताबें मिलती है, ड्रेस मिलती है, जूते मिलते हैं, बैग मिलते है तो आपकी बताई लड़की से शादी क्यों नहीं हो सकती। स्कीम शुरू कीजिये कि हमारी बताई लड़की से शादी करने पर होने वाले बच्चे को शत-प्रतिशत एडमीशन मिलेगा। फिर देखिये शादी में भी कमीशन और सीटें भी house full.
*अब प्रिंसिपल मैडम कशमकश में है, सरदार जी की बात सुनकर गुस्सा तो आ रहा है पर स्कीम भी बुरी नहीं लग रही है।*
😂😂😂😆😆😆