मोदी 3.0 Cover Image

आजकल जापान के अखबारों और जापान की मीडिया में गुजरात के सुजुकी के बेचराजी की प्लांट के बारे में खूब चर्चा हो रही है

क्योंकि मात्र 4 वर्षों में यह प्लांट 10 लाख गाड़ियों के उत्पादन तक पहुंच गया और आज इस प्लांट की बनी गाड़ियां रेलवे द्वारा बनाए गए विशेष डिब्बों में रखकर मुंद्रा पोर्ट जाती हैं और फिर मुंद्रा पोर्ट से पूरी दुनिया में भेजी जा रही है।

7 साल पहले जब गुजरात सरकार ने जापान की सुजुकी मोटर्स के मालिक ओसामू सुज़ुकी के साथ उत्तर गुजरात के बेचराजी के पास रेतीली बंजर जमीन पर सुजुकी का विशाल प्लांट लगाने का समझौता किया तब सोनिया गांधी के इशारे पर कांग्रेस के जनरल सेक्रेटरी लाल जी देसाई ने एक एनजीओ बनाया जिसका नाम रखा मालधारी रूलर एक्शन ग्रुप यानी मार्ग और आनन-फानन में इस एनजीओ के खाते में विदेशों से करोड़ों रुपए जमा हो गए

और कांग्रेस ने यह प्लांट ना बने लोगों को रोजगार ना मिले उसके लिए पूरी एड़ी चोटी का जोर लगा दिया था ।

जब भी किसी इलाके में कोई बड़ी ऑटोमोबाइल की कंपनी आती है तो फिर उसके साथ उसको तमाम ऑटो पार्ट्स अप्लाई करने वाली सैकड़ों दूसरी कंपनियां भी आ जाती है जैसे स्टीयरिंग बनाने वाली कंपनी हो या फिर लाइट बनाने वाले कंपनी गियर बॉक्स बनाने वाली कंपनी स्विच रेडिएटर बैटरी सीट कवर जैसे तमाम सैकड़ों दूसरी कंपनियां भी आती है

पहले कांग्रेस ने इलाके के लोगों को भड़काने की कोशिश किया लेकिन आप जानकर आश्चर्य हो जाएंगे कांग्रेस द्वारा लाखों रुपए देने के बावजूद भी एक भी ग्रामीण इनके समर्थन में नहीं आया

यह कुछ बाहरी लोगों को लाकर धरना प्रदर्शन करते थे और सिर्फ टेलीविजन की एक मीडिया एनडीटीवी और कुछ वामपंथी पोर्टल जैसे द वायर द क्विंट इनके धरना प्रदर्शन को कवर करते थे और इस तरह से दिखाते थे जैसे पूरा गुजरात इस प्लांट के विरोध में है

एक स्टिंग ऑपरेशन में इस एनजीओ का एक बड़ा पदाधिकारी स्वीकार किया था कांग्रेस नेतृत्व ने चीनी कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए जापान की सुजुकी मोटर के इस प्लांट को ना लगने के लिए हमें कहा है। दरअसल चीन की दो बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी जिसमें शंघाई ऑटोमोबाइल ग्रुप भी शामिल है वह भी भारत में अपना प्लांट लगाना चाहती थी चीन की कार बनाने वाली कंपनियां भी भारत के ऑटोमोबाइल बाजार में कदम रखना चाहती थी और जिस तरह से चीन ने भारत के मोबाइल फोन मार्केट पर कब्जा कर लिया उसी तरह चीन सरकार का सपना था कि वह भारत के ऑटोमोबाइल बाजार पर भी कब्जा कर लेगी और इसके लिए चीन ने कांग्रेस के साथ समझौता किया था

आज यह प्लांट सीधे-सीधे 10 हजार लोगों को रोजगार देता है और करीब 30 हजार लोग ऐसे हैं जो इस प्लांट से इनडायरेक्टली रोजगार कमाते हैं जैसे उस एरिया में लोगों ने बहुत सारे फ्लैट खरीद लिए हैं और इन तमाम प्लांट में काम करने वाले इंजीनियर या मजदूर उसमें रहते हैं उधर सैकड़ों रेस्टोरेंट और भोजनालय खुल गए हैं उससे भी लोगों को बहुत कमाई हो रही है

आज यदि आप बेचराजी से हांसलपुर होते हुए सानंद से लेकर वीरमगाम के आगे तक जाएंगे तब आप यह देख कर चौक जाएंगे कि यह पूरा पट्टा हजारों ऑटोमोबाइल कंपनियों से गुलजार हो गया है

यही आपको होंडा का दुनिया का सबसे बड़ा प्लांट दिखेगा थोड़ी दूर टाटा मोटर्स का इलेक्ट्रिक कार बनाने का बड़ा प्लांट है

मुझे याद है जब नरेंद्र मोदी जी गुजरात के मुख्यमंत्री थे और जब उन्होंने गंदे बजबजाते साबरमती के दोनों तरफ जो गंदी झोपड़पट्टी थी जहां से तमाम बीमारियां फैलती थी लोग उधर से जाना पसंद नहीं करते थे उस साबरमती के दोनों तरफ उन्होंने जब रिवरफ्रंट बनाने का ऐलान किया था तब कांग्रेस ने साबरमती रिवर फ्रंट ना बने उसके लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया था

कांग्रेस के 3 बड़े वकील कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी तथा मनीष तिवारी रिवर फ्रंट के खिलाफ गुजरात हाई कोर्ट में पीआईएल दाखिल किए थे

एक दूसरी पीआईएल शबनम हाशमी और तीस्ता सीतलवाड़ के तरफ से झोपड़पट्टी वालों के लिए डाली गई थी। कांग्रेस के नेता जगह-जगह धरना प्रदर्शन करते थे और कहते थे कि रिवरफ्रंट बनेगा तो झोपड़पट्टी उजड़ जाएंगे लोग कहां जाएंगे रिवर फ्रंट बनने से नदी की डाइवर्सिटी बर्बाद हो जाएगी

जबकि उस वक्त नदी में पानी होता ही नहीं था नदी के तल में बच्चे क्रिकेट खेलते थे। सूखी हुई नदी में कांग्रेसी कुत्तों को बायोडायवर्सिटी नजर आती थी

गुजरात सरकार ने गुजरात हाईकोर्ट में एफिडेविट दिया कि हम सभी विस्थापित लोगों को पक्का फ्लैट रहने को दे रहे हैं फिर गुजरात हाईकोर्ट ने परियोजना का अप्रूवल दे दिया

फिर कांग्रेसी सुप्रीम कोर्ट में गए गुजरात सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से अपील किया कि इस विवाद का 3 महीने में निस्तारण किया जाए सुप्रीम कोर्ट भी गुजरात सरकार के काम से संतुष्ट हो गया और उसने बनाने की मंजूरी दे दी

और आज यदि आप रिवर फ्रंट जाएंगे तो वहीं कांग्रेसी कुत्ते अपने परिवार वालों और अपने रिश्तेदारों को लेकर रिवर फ्रंट पर घूमने आते हैं

image

image

10 दिन से तेजस्वी की रैली देख कर 'लहर-लहर' चिल्लाने बाले आज मोदी जी की रैली देख कर 'शोसल डिस्टैसिंग' का रोना रो रहा है।🤣
#बिहार

image

प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार के प्रयासों से देश ने कोरोना महामारी के कारण हो रही मृत्यु दर को कम करने में विश्व की महाशक्तियों को पीछे छोड़ा

image

🤗😃 ये ताऊ जो भी है अपने गाँव की एक टुम ही है। 😃🤗
हर गाँव मे एक ऐसा मोदी भगत आदमी तो होना ही चाहिए जो महफ़िल में लोगो को मोदीजी और राहुल में फर्क समझा सके।

About

like if you are a modi supporter