काव्य रस Cover Image

'तुम्हारे गम की डली उठाकर ज़ुबां पे रख ली है देख मैने,
ये कतरा कतरा पिघल रही है, मैं कतरा कतरा ही जी रहा हूं।'
गुलजार।

खून अपना हो या पराया हो
नस्ल ए आदम का खून है आख़िर
जंग मशरिक में हो या मग़रिब में
अमन ए आलम का खून है आख़िर

टैंक आगे बढ़ें या पीछे हटें
कोख धरती की बाँझ होती है
फ़तहे का जश्न हो या हार का सोग
जिंदिगी मैयतों पे रोती है

जंग तो ख़ुद ही एक मसला है
जंग क्या मसअलों का हल देगी
खून ओर आग आज बरसेगी
भूख ओर एहतियाज कल देगी

इसलिए ए शरीफ इंसानों
जंग टलती रहे तो बेहतर है
आप ओर हम सभी के आँगन में
शम्मा जलती रहे तो बेहतर है

साहिर लुधियानवी

.
माया मरी न मन मरा, मर-मर गए शरीर।
आशा तृष्णा ना मरी, कह गए दास कबीर॥

कबीरदास 🌻

About

कविताएँ और शायरी और गझलें पढ़ने के लिए पेज को लाइक करें।