चुरू लाइव Cover Image

इणरी बापडे री कोई कद्र नी
इण दिनो मारवाड रा खेत भरिया पडिया है,
राजस्थान म़े इणने तूंबा कहवै,
हालांकि ओ औषधीय फल है, अर इणरो असल नाम हैं #इन्द्रायण ।।

भले इण दिनों तो इणनै गायां भैस्या भी कोनी खावती.
पण शरीर स्वास्थ्य सारू़ इणरा अणूता फायदा है ।।
★ इणरी जड ने सूखो र पाउडर बणार डेली थोडी थोडी पाँणि सागे फांकी लो... पेट अर पेशाब संबधित सगला रोग दूर हो जासी .
★ बडा बूजूर्गो रे श्वांस , दमा, अस्थमा री तकलीफ हूवै,
तो इणनै सूखो र कूट र चिलम में भर....पछै खींचो.
जे कोई चिलम नी खींच सके तो इणने जला र,भी इणरो धुंओ खींच सके ।
खांसी सारू़ं भी रामबाण ....

कोई भाई शौक रूपी काचो (कच्चा) ही खावणोंं चाहवै तो खा सके, इणरा कोई साईड इफेक्ट नी ...😊

image

कभी मुंबई में बनाता था टी शर्ट, अब चूरू में बनाकर मुंबई भेजेगा भरतराज
बेहतरीन फिनिशिंग और गुणवत्ता के चलते बड़े शहरों से आ रही है खूब मांग
चूरू, 10 अक्टूबर। ये चूरू के भरतराज हैं। टी-shirt, लोअर, पजामे, बरमूडा, ब्लेजर, गरम इनर जैसे गारमेंट तैयार करने में मास्टर माइंड। मुंबई की बड़ी गारमेंट फैक्ट्री में काम कर चुके हैं। कपड़े की बढ़िया finishing or गुणवत्ता के दम पर उसे मुंहमांगे दामों पर बेचा जा सकने वाले हुनर के जानकार।
लॉकडॉउन से पहले तक ये मुंबई में सीमित आय वाली नौकरी किया करते थे। कोरोनावायरस के कारण बड़े शहरों की फैक्ट्रियां बन्द हो गई तो इन्हे भी बेकारी का सामना करना पड़ा। इसी आपाधापी में बिना हिसाब किताब लिए ही किसी तरह चूरू आ गए। यहां आकर एक हुनरमंद युवा कब तक घर पर खाली बैठता। एक दिन ख्याल आया क्यूं न जो कपड़े चूरू जैसे छोटे शहरों के लोग मुंबई, दिल्ली जैसे शहरों से मंगवाते हैं वो यहीं तैयार करके बड़े शहरों में भेजा जाए। हाथ को हुनर तो था ही बस एक विचार मिल गया। जुट गए भरतराज इस विचार को अमलीजामा पहनाने में। किराए की दुकान के बेसमेंट में 5 नई जुकी मशीनें लगाई। कच्चा माल मंगवाया ओर तैयार किए कुछ कपड़ों के सैंपल। उनके बनाए सैंपल बड़े शहरों के विक्रेताओं को भेजे तो उन्हें हाथोंहाथ लिया गया। उनके तैयार किए गारमेंट की फिनिशिंग ओर कपड़ा उच्च गुणवत्ता के होने से उन्हें सप्लाई के ऑर्डर मिलने लगे। 6 महीने का समय इन्हीं तैयारियों में लगाने के बाद अब भरतराज इंडस्ट्री की मांग पूरी करने की स्थिति में आ गए हैं। सर्दियों की सीजन के लिए गरम इनर और ब्लेजर पर फोकस कर रहे हैं। आत्मविश्वास से लबरेज भरतराज कहते हैं अब मुंबई से माल मंगवाने वाले नहीं हम भेजने वाले हैं।
#आत्मनिर्भर भारत# करो लोकल को वोकल# व्हाय चायना#टी-shirt मेड इन चूरू

imageimage
+9

गांधी विद्या मंदिर सरदारशहर का आयुष काढ़ा कोराना से लडने में काफी कारगर साबित हुआ है। देश के विभिन्न भागों में इसकी मांग है। बहुत सारे जिलों को वहां के प्रशासन की मांग पर काढ़ा भेजा गया है। चूरू में यह पतंजलि सेवाकेंद्र, राठौड़ लॉज के सामने (7665239337) उपलब्ध है। इसे सिर्फ 3 दिन पीना ही काफी है।

image

कोरोना संक्रमण रोकने के लिए कारगर उपाय करें, मार्च तक की बनायें कार्य योजना - डॉ. सिंह
राज्य नोडल अधिकारी ने चिकित्सा अधिकारियों की बैठक लेकर दिये निर्देश
चूरू, 21 सितम्बर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के राईट टू हैल्थ के राज्य नोडल अधिकारी व जिला प्रभारी डॉ. सुनील सिंह ने चिकित्सा अधिकारियों की बैठक में कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के वर्तमान संक्रमण को रोकने के लिये अपनाये जा रहे वर्तमान उपायों को सुदृढ़ करने के साथ चिकित्सा अधिकारियों को मार्च 2021 तक की कार्ययोजना तैयार करनी है। इसके साथ ही उन्होंने जिले में कोरोना वायरस जांच सैम्पल बढ़ाने व जांच टीमें बढ़ाने के निर्देश दिये।
वे सोमवार को कलेक्ट्रेट सभागार में कोविड-19 रोकथाम व प्रभावी नियंतर््ण के आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जिले में कुल सेम्पल कलेक्शन हेतु 38 टीम कार्यरत है, टीमों का रोटेशन एवं रेण्डम सेम्पलिंग के लिये पीएमओ एवं ब्लॉक सीएमएचओ को निर्देशित किया जाता है कि टीमों का समयानुसार रोटेशन एवं रेण्डम सेम्पलिंग हेतु निर्देशित करें। टीमों में एलटी एवं एलए के साथ सपोर्ट स्टॉफ लगाने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि टीमों की आवश्यकतानुसार कांउसलिंग की जावे ताकि सेम्पल रिजेक्शन का प्रतिशत कम से कम रहे।
भरतिया अस्पताल के न्यू कोविड वार्ड बैड की संख्या बढ़ायें

डॉ सिंह ने जिला मुख्यालय स्थित राजकीय डेडराज भरतिया चिकित्सालय में 15 नये वेंटीलेटर्स को शुरू करवाने के लिये पीएमओ को निर्देशित किया। राजकीय भरतिया चिकित्सालय में कोविड हेतु न्यू वार्ड में बैड की संख्या बढ़ा कर 20 किया जाना प्रस्तावित किया। वार्ड में सेनेटाईजड आक्सीजन सिस्टम प्रारम्भ किया जाना प्रस्तावित किया। मेडिकल कॉलेज, चूरू में जांच क्षमता 3000 सैंम्पल प्रतिदिन है,केस बढ़ने के साथ सैम्पल की संख्या बढ़ाने के कहा गया। जिला चिकित्सालय में चिकित्सा अधिकारी एवं जिले के अन्य स्थानों पर पदस्थापित चिकित्सा अधिकारियों को वेंटीलेटर्स की टे्रनिंग दिया जाना प्रस्तावित है ताकि भविष्य में आवश्यकता पड़ने पर इनका उपयोग लिया जा सके।
रतनगढ़ अस्पताल में 15 दिन में आक्सीजन प्लांट शुरू करने के निर्देश
डॉ सिंह ने बैठक के दौरान रतनगढ़ उप जिला अस्पताल में 15 दिन में ऑक्सीजन प्लांट शुरू करने के निर्देश दिए। उप जिला अस्पताल, रतनगढ़ में वर्तमान में कोविड रोगियों हेतु 20 बेड आरक्षित है जिसमें से 10 बेड पर आक्सीजन उपलब्ध है तथा अन्य पर आक्सीजन सप्लाई की आवश्यकता है। उन्होंने आगामी 15 दिवस में आक्सीजन प्लॉट शुरू करने के लिये निर्देश दिये। जिले में होम क्वारंटीन किये गये रोगियों के घरों पर विभाग द्वारा नोेटिस चस्पा करने के लिये सभी ब्लॉक सीएमएचओ को निर्देशित किया गया। डेडिकेटेड कोविड चिकित्सालय के हेल्प डेस्क स्थापित करने तथा कोविड रोगियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सभी पीएमओ व बीसीएमओ को मार्च 2021 तक की कार्य योजना बनाने के लिये कहा गया।

बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनमोहन गुप्ता ने जिले में कोविड-19 प्रबंधन के बारें में बताया। इसी तरह उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. देवकरण गुरावा ने जिले के आंकड़ों को विस्तार से बताया। इस दौरान सहायक निदेशक (जनसंपर्क) कुमार अजय, अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. भंवरलाल सर्वा, पीएमओ डॉ. गोगाराम, डॉ. राजेन्द्र गौड़, बीसीएमओ डॉ. रामचन्द्र, डॉ. अहसान गौरी, डॉ. विकास सोनी, डॉ. राकेश जैन, डॉ. हरकेश बुडानियां, डॉ. अखिलेश व एनसीडी के प्रेमशंकर शर्मा सहित बीपीएम मौजूद रहे।
----

image

ग्राहक-दुकानदारों ने नहीं लगाए मास्क तो कटेंगे चालान
कलक्टर-एसपी ने व्यापारियों से कहा- कोरोना संक्रमण की गंभीर स्थिति से निपटने में करें सहयोग, सोशल डिस्टेंसिंग के लिए दुकानों पर बनाएं सर्कल, बिना मास्क वाले ग्राहकों को नहीं दें सामान
चूरू, 19 सितम्बर। जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की गंभीर स्थिति को देखते हुए जिला प्रशासन अब सख्त कदम उठाने की तैयारी में है। शनिवार को कलक्ट्रेट सभागार में व्यापारियों के साथ हुई बैठक में जिला कलक्टर डॉ प्रदीप के गावंडे एवं पुलिस अधीक्षक परिस देशमुख ने स्पष्ट किया कि कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने में व्यापारी प्रशासन का सहयोग करें, कोविड-19 प्रोटोकॉल की पालना करें अन्यथा प्रशासन को कड़े कदम उठाने पड़ेंगे।
जिला कलक्टर डॉ गावंडे ने कहा कि जिले में लगातार कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ता जा रहा है, जिसे रोकने के लिए प्रशासन के साथ-साथ सभी लोगों को अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करना होगा। हम यह चाहते हैं कि जनजीवन और कारोबार पूरी तरह सामान्य रहे लेकिन यह भी सुनिश्चित किया जाना जरूरी है कि यह छूट किसी भी प्रकार से यह कोरोना संक्रमण का कारण न बनें। दुकानों पर दुकानदार व ग्राहक दोनों मास्क लगाएं तथा सोशल डिस्टेंसिंग की पालना के लिए गोले बनाए जाएं। पालना नहीं करने वाले ग्राहकों को सामान विक्रय नहीं करें। यदि इस प्रोटोकॉल की पालना नहीं होती है तो फिर प्रशासन को चालान काटने की कार्यवाही तेज करनी होगी। आमजन के स्वास्थ्य के हित में सभी व्यापारियों को यह सहयोग करना चाहिए।
एसपी परिस देशमुख ने कहा कि यह आमजन के स्वास्थ्य से जुड़ा मसला है और इसमें किसी प्रकार की सख्ती हम करना नहीं चाहते लेकिन आमजन के स्वास्थ्य से खिलवाड़ भी बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। इसलिए बेहतरी इसी में है कि हम सभी अपनी जिम्मेदारी समझें और कोविड-19 अंतर्गत शासन-प्रशासन के निर्देशों की पालना करें। यदि समझाइश के बावजूद भी कोई नहीं मानता है तो मजबूरन कानूनी कार्यवाही करनी पड़ेगी।
अतिरिक्त जिला कलक्टर रामरतन सौंकरिया ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए आने वाले कुछ दिन अत्यंत महत्त्वपूर्ण तथा चुनौतीपूर्ण है, ऎसे में हम सभी को अधिक सावधानी एवं सतर्कता की जरूरत है। राज्य सरकार के निर्देशानुसार ‘नो मास्क, नो एंट्री’ की अवधारणा केवल सरकारी कार्यालयों ही नहीं, अपितु प्रत्येक परिसर के लिए जरूरी है, जहां लोगों का आवागमन रहता है।
बैठक में व्यापारियों ने कोविड-19 से निपटने में शासन-प्रशासन को पूरी तरह सहयोग देने का भरोसा दिलाया तथा अपनी ओर से महत्ती सुझाव दिए। इस दौरान चूरू एसडीएम आईएएस अभिषेक खन्ना, चूरू वृत्ताधिकारी आईपीएस शैलेंद्र सिंह इंदौलिया सहित अधिकारी एवं व्यापारी मौजूद थे।
एडीएम सौंकरिया ने बताया कि शनिवार को जिले के विभिन्न उपखंड मुख्यालयों पर उपखंड अधिकारियों द्वारा व्यापारियों के साथ इसी प्रकार बैठक लेकर समझाइश की गई है। इसके बाद भी दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करने और लापरवाही करने वाले लोगों पर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।
--

image
About

All news updates of Churu district